शुन्य से शिखर तक - Walt Disney की प्रेरणादायक कहानी

 दोस्तों डिज्नी कंपनी को तो आप जानते ही होंगे , हाँ वही  मिकी माउस  वाली ! जिसने पहले   DIC INTERTENMENT ख़रीदा (DC नही )  फिर ,FOX, MARVEL , HOTSTAR  समेत जो अब  पूरी दुनिया को खरीदने की फ़िराक में है 
130  बिलियन की नेटवर्थ  वाली इस कंपनी की शुरुवात कहाँ से हुई क्या आप जानते हैं ?
 आज हम बात करेंगे वाल्ट डिज्नी की . और जानेंगे  दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों  में से एक  डिज्नी  कंपनी के बनने के पीछे की एक ऐसी  सच्ची  कहानी जिसके आगे  सारी  काल्पनिक गल्प  कहानियों  में  उन्नीस  बीस का अंतर   हैं .

walt disney story



वाल्ट डिज्नी का जन्म 5 सितम्बर 1901 को अमेरिका के शिकागो में हुआ था। वो पांच भाई- बहन थे। वाल्ट डिज्नी को बचपन से ही चित्र बनाने का बड़ा शौक था। 7 वर्ष की आयु में  इन्होंने अपना पहला चित्र  बनाया, जिसे इन्होंने अपने पडौसी को बेचा। 
चित्रकला और फोटोग्राफी सीखी इन्होंने बचपन  में ही सीख ली थी।
और एक स्कूल के  समय  स्कूल की  एक पत्रिका के सम्पादक भी रहे। 
  अपने चित्रकला के जुनून को जिंदा रखते हुए स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने अकैडमी आफ फाइन आर्ट्स के एक स्कूल में दाखिला ले लिया।
 स्नातक की डिग्री  पाने के बाद वो सेना में भर्ती होना चाहते थे, लेकिन कम उम्र के कारण नही हो पाए।
 इसके बाद वाल्ट डिज्नी रेडक्रॉस में शामिल होकर  एम्बुलेंस चलाकर समाजसेवा करने लगे। कहते है कि उन्होंने एम्बुलेंस को रंग-बिरंगे कार्टूनों से सजा रखा था। कुछ समय बाद फिर उन्होंने  आजीविका के लिए विज्ञापनों के लिए कार्टून बनाना शूरू कर दिया।

 1920 में वो  एक प्रोफेशनल कार्टून एनिमेटर बन गये। 
और मात्र 19 साल की उम्र में उन्होंने अपनी कंपनी बनाई लेकिन असफल हो गए। कहा जाता है कि उस वक़्त उनके पास खाने के लिए भी पैसे नही थे। शायद वक़्त उनका इम्तिहान ले रहा था। क्योंकि काबिल लोगों की परीक्षा के मापदंड भी बड़े  होते है। लेकिन ये आदमी कहाँ हार मानने वाला था?
दिन-रात की कड़ी मेहनत से  इन्होने अनिमेशन बनाने की एक  ऐसी प्रक्रिया तैयार कर ली, जिससे लाइव एक्शन और एनीमेशन का खुबसुरत मेल था।

 फिर  कुछ वर्ष बाद वाल्ट डिज्नी अपना  बोरिया बिस्तर और सारा ताम-झाम व सामान समेटकर  हॉलीवुड आ पहुचे। उस वक़्त तक  इनका विवाह  इन्ही की  पूर्व  कर्मचारी लिलियन से  हो चुका था .
 1928 में वो मिकी माउस पात्र के साथ सामने आये।  मिकी माउस को पहले इन्होंने मार्टिमर माउस नाम दिया था, लेकिन अपनी अपनी के आग्रह के बाद उसे मिकी माउस कर दिया।
उन्होंने “Plane Crazy ” नामक पहला मूक कार्टून बनाया। फिल्मो में उस समय तक आवाज की तकनीक विकसित नही हुयी थी। और एक कुछ ही मिनटों की फ़िल्म को बनाने के लिए हाथों से सैकड़ो तस्वीरे भी बनानी पड़ती थी।
 “स्टीम बिली ” में उन्होंने मिक्की माउस को एक स्टार की तरह पेश किया। और मिकी माउस सच में एक सितारा बन गया .. जो कार्टून फिल्मो में आज भी एक मील का पत्थर माना जाता है .

वाल्ट डिज्नी वाल्ट एक दूरदर्शी किस्म के व्यक्ति थे।  वो एनीमेशन फिल्मो के लिए जुटे रहे।   समय बदला ,वक्त बदला , श्वेत-श्याम  फिल्मो का दौर चले गया और  टैक्नीकलर एनीमेशन  आया ।
 1932 में “Flowers and Trees ” के लिए उन्होंने २२  में से पहला निजी एकादमी पुरुस्कार जीता। 21 सितम्बर 1933 को उनकी पहली लम्बी एनीमेशन फिल्म “Snow White and Seven Dwarfs ” लोस एंजेल्स के “कैरेथे सर्किल थिएटर ” में दिखाई गयी।
 फिल्म इतनी लोकप्रिय हुयी  कि इसने अपने व्यय से कही ज्यादा धनोपार्जन किया। अभी  भी ये  “Motion फिल्म Industry” की सबसे बड़ी फिल्म मानी जाती है।
 और अगले ४,५ सालों में “पिनोकियो ” “फंतसिया” “डम्बो” और “बाम्बी ” जैसी सफल फिल्मे उन्होंने  बनाई। और फिर सफलता का वो  सिलसिला  कभी नही रुका .

वाल्ट डिज्नी ने अपनी कल्पना से विश्व को आश्चर्य में डाल दिय।   दुनियाभर  से 950 से भी अधिक पुरुस्कार एवं सम्मान प्राप्त इन्हें मिले ।  22 ऑस्कर अवार्ड समेत  सात एमी पुरूस्कार  इन्हें  प्राप्त हुए।  व् ५९ बार ऑस्कर अवार्ड  के लिए विभिन्न  श्रेर्णियों   इनका नामांकन  हुआ था .. 1955 में उन्होंने 17 मिलियन के निवेश से “DisneyLand” तैयार किया। 1980 तक 250 मिलियन लोग वहा जा चुके थे। 
 वाल्ट सही मायनों में  एक जादूगर थे - कल्पना के जादूगर !
15 दिसम्बर 1966 को वाल्ट डिज्नी ने  इस फानी दुनिया को अलविदा कह दिया ..

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ

  1. Nice article Sir🙏🙏
    कृपया हमारे ब्लॉग पर भी आइए आपका हार्दिक स्वागत है और अपनी राय व्यक्त कीजिए!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद मनीषा जी। मैं आपका ब्लॉग जरूर देखूंगा।

      हटाएं